Picture of  राष्ट्र अर्चना

राष्ट्र अर्चना

Manufacturer: Archana Prakashan
विभिन्न अवसरों पर गाए जानेवाले इन चयनीत गीतों के रचनाकार अज्ञात हैं। इन महान गीतकारों के मन में प्रसिद्धि व लोकेषणा की कोई आकांक्षा नहीं थी। यही कारण है कि उनके गीतों को ‘राष्ट्र अर्चना’ का स्वर या भाव कहना ही सही होगा। इन गीतों ने देश में जन जागरण का कार्य किया है। ‘राष्ट्र अर्चना’ गीत संग्रह पुस्तिका में 11 विषयों पर कुल 130 गीतों का समावेश है। विभिन्न अवसरों पर गाए जानेवाले इन चयनीत गीतों के रचनाकार अज्ञात हैं। इन महान गीतकारों के मन में प्रसिद्धि व लोकेषणा की कोई आकांक्षा नहीं थी। यही कारण है कि उनके गीतों को ‘राष्ट्र अर्चना’ का स्वर या भाव कहना ही सही होगा। इन गीतों ने देश में जन जागरण का कार्य किया है। ‘राष्ट्र अर्चना’ गीत संग्रह पुस्तिका में 11 विषयों पर कुल 130 गीतों का समावेश है। राष्ट्र अर्चना राष्ट्र अर्चना राष्ट्र अर्चना भारत के पुनरुत्थान के लिए अनेक सामाजिक संगठन एवं सेवाभावी संस्थाएं कार्यरत हैं। इन संस्थाओं और संगठनों की कार्यपद्धति तथा विभिन्न प्रकार की गतिविधियों व कार्यक्रमों के दौरान गीत गाए जाते हैं। ये गीत सामूहिक या एकल दोनों ही प्रकार से गाए जाते हैं। इस दृष्टि से गीतों का चयन परमावश्यक होता है। गीत ऐसे हो जिसके गायन, पठन अथवा श्रवण करने से मनुष्य के हृदय में राष्ट्र व समाज के प्रति समर्पण का भाव जगे। अर्चना प्रकाशन (भोपाल) द्वारा प्रकाशित “राष्ट्र अर्चना” ऐसे ही चयनीत गीतों का उत्तम संग्रह है।  भारत के पुनरुत्थान के लिए अनेक सामाजिक संगठन एवं सेवाभावी संस्थाएं कार्यरत हैं। इन संस्थाओं और संगठनों की कार्यपद्धति तथा विभिन्न प्रकार की गतिविधियों व कार्यक्रमों के दौरान गीत गाए जाते हैं। ये गीत सामूहिक या एकल दोनों ही प्रकार से गाए जाते हैं। इस दृष्टि से गीतों का चयन परमावश्यक होता है। गीत ऐसे हो जिसके गायन, पठन अथवा श्रवण करने से मनुष्य के हृदय में राष्ट्र व समाज के प्रति समर्पण का भाव जगे। अर्चना प्रकाशन (भोपाल) द्वारा प्रकाशित “ राष्ट्र अर्चना ” ऐसे ही चयनीत गीतों का उत्तम संग्रह है। 
Availability: Out of stock
₹ 12.00

विभिन्न अवसरों पर गाए जानेवाले इन चयनीत गीतों के रचनाकार अज्ञात हैं। इन महान गीतकारों के मन में प्रसिद्धि व लोकेषणा की कोई आकांक्षा नहीं थी। यही कारण है कि उनके गीतों को ‘राष्ट्र अर्चना’ का स्वर या भाव कहना ही सही होगा। इन गीतों ने देश में जन जागरण का कार्य किया है। ‘राष्ट्र अर्चना’ गीत संग्रह पुस्तिका में 11 विषयों पर कुल 130 गीतों का समावेश है।

राष्ट्र अर्चना

भारत के पुनरुत्थान के लिए अनेक सामाजिक संगठन एवं सेवाभावी संस्थाएं कार्यरत हैं। इन संस्थाओं और संगठनों की कार्यपद्धति तथा विभिन्न प्रकार की गतिविधियों व कार्यक्रमों के दौरान गीत गाए जाते हैं। ये गीत सामूहिक या एकल दोनों ही प्रकार से गाए जाते हैं। इस दृष्टि से गीतों का चयन परमावश्यक होता है। गीत ऐसे हो जिसके गायन, पठन अथवा श्रवण करने से मनुष्य के हृदय में राष्ट्र व समाज के प्रति समर्पण का भाव जगे। अर्चना प्रकाशन (भोपाल) द्वारा प्रकाशित राष्ट्र अर्चना ऐसे ही चयनीत गीतों का उत्तम संग्रह है। 

Customers who bought this item also bought

Recently viewed products

राष्ट्र अर्चना

विभिन्न अवसरों पर गाए जानेवाले...

Leave a Message. X

: *
: *
: *
:
Call us: +91-1145633345