वे पंद्रह दिन

वे पंद्रह दिन

  • Rs200.00

देश विभाजन के समय हमारे देश में लेखकों की कमी नहीं थी लेकिन उन्होंने इस अप्रिय सत्य की ओर से अपनी आँखे मूंदे रखी | १९४७ के विभाजन की त्रासदी में, क्रूरता और बर्बरता के उस भयानक कालखंड में , अनेक सर्वसामान्य नागरिकों और स्वयंसेवकों ने अपने प्राणों की परवाह न करते हुए लाखों हिन्दू-सिख भाई-बहनों को पाकिस्तान से सुरक्षित भारत में पहुचाया | ०१ अगस्त १९४७ से १५ अगस्त १९४७ तक इन १५ दिनों में जो भी भीषण घटनाएँ हुई है उसका सत्य इस पुस्तक में प्रस्तुत किया गया है |

 

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good
Captcha

Tags: वे पंद्रह दिन, स्वतंत्रता, गाथा, १९४७, 15 DAYS