आरक्षण का दंश

आरक्षण का दंश

  • Rs500.00
  • Rs450.00

प्रस्तुत पुस्तक का विषय आरक्षण पर चली आ रही सार्वजनिक बहस है जो विगत तीस वर्षों में अलग-अलग मोड़ और उतार-चढाव लेती आ रही है | प्रस्तुत विषय को स्पष्ट करने एवं परिणामों को सामने लाने के लिए विद्वान लेखक ने सर्वोच्च न्यायालय के निर्णयों को माध्यम बनाया है | 'आरक्षण' का विषय अत्यंत चिंतनीय एवं विचारनीय है |   

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good
Captcha

Tags: Aarakshan ka Dansha, Reservation, Arakshan