Picture of तथागत और श्री गुरुजी

तथागत और श्री गुरुजी

Manufacturer: Shri Bharati Prakashan
इस पुस्तिका के लेखक कहते है- श्री गुरुजी का मैत्री, करुणा, मुदिता... इस सूक्त पर भाष्य पढ़ने के बाद दीर्घकाल तक उस विषय का मनन, चिन्तन चलता रहा| मन में विचार आया कि श्री गुरुजी के प्रत्यक्ष जीवन में मैत्री, करुणा, मुदिता, उपेक्षा यह भाव किस तरह से प्रकट हुए है यह देखा जा सकता है क्या? इस सन्दर्भ में श्री गुरुजी के जीवन के अनेक प्रसंग और संस्मरण पढ़ना आरम्भ किया| यह प्रसंग और संस्मरण पहले भी पढ़े हुए थे| मगर नये सन्दर्भ में उन्हीं संस्मरणों और प्रसंगों से नई अनुभूति आने लगी|
Availability: 8 in stock
₹ 10.00

इस पुस्तिका के लेखक कहते है- श्री गुरुजी का मैत्री, करुणा, मुदिता... इस सूक्त पर भाष्य पढ़ने के बाद दीर्घकाल तक उस विषय का मनन, चिन्तन चलता रहा| मन में विचार आया कि श्री गुरुजी के प्रत्यक्ष जीवन में मैत्री, करुणा, मुदिता, उपेक्षा यह भाव किस तरह से प्रकट हुए है यह देखा जा सकता है क्या? इस सन्दर्भ में श्री गुरुजी के जीवन के अनेक प्रसंग और संस्मरण पढ़ना आरम्भ किया| यह प्रसंग और संस्मरण पहले भी पढ़े हुए थे| मगर नये सन्दर्भ में उन्हीं संस्मरणों और प्रसंगों से नई अनुभूति आने लगी|

Leave a Message. X

: *
: *
: *
:
Call us: +91-1145633345